हिमाचल: कोरोना वैक्सीन के लिए नेरचौक अस्पताल बनेगा सबसे बड़ा सेंटर, हुआ ऐलान, इन कर्मियों का होगा सबसे पहले टीकाकरण

पूरे देशभर में कोरोना के खिलाफ लड़ी जा रही जंग अब निर्णायक दौर में पहुंचने जा रही है। वहीं 16 जनवरी से कोविड वैक्सीन का टीकाकरण अभियान भी शुरू होने जा रहा है। पहले चरण मे इस जंग मे फ्रंट लाइन के योद्धआओं को वैक्सीन दी जाएगी। वहीं मंडी जिला में नेरचौक मेडिकल सबसे बड़ा सेंटर होगा, जहां लाभार्थियों को वैक्सीन दी जाएगी, क्योंकि कोविड अस्पताल होने के कारण यहीं पर सबसे ज्यादा स्वास्थ्य और दूसरे कर्मी मौजूद है।

यहां पर पहले दिन ही सौ लोगों को कोरोना वैैक्सीन दी जाएगी। वहीं नेरचौक मेडिकल कालेज में पहली वैक्सीन एक एंबुलेंस के ड्राइवर को दी जाएगी। सोमवार को जिला भर में कोविड वैक्सीन के लिए ड्राई रन का आयोजन किया गया था और नेरचौक मेडिकल कालेज में मंडी के डीसी ऋग्वेद ठाकुर ने वैक्सीन के लिए चल रही तैयारियों का जायजा लिया था। इसी के साथ प्रथम चरण मे मंडी जिला में 11065 व्यक्तियों का डेटाबेस तैयार किया गया है।

हमारे पास जो अभी तक जानकारी है उसके अनुसार मंडी के जोनल अस्पातल के मेटरनल एंड चाइल्ड हैल्थ सेंटर में स्टाफ नर्स, सिविल अस्पताल करसोग के एमसीएच में आशा वर्कर, सिविल अस्पताल सुंदरनगर के एमसीएच मे लैबरोटरी टेक्नीनिशियन, सिविल अस्पताल सरकाघाट में डाक्टर और सिविल अस्पताल जोगिद्रंनगर में आशा वर्कर को पहली वैक्सीन दी जाएगी। इसके बारे में नेरचौक मेडिकल कालेज के एमएस डा. जीवानंद चैहान ने बताया कि टीकाकरण के पहले दिन नेरचौक मेडिकल कालेज में एक सौ लाभार्थियों को वैक्सीन दी जाएगी और सबसे पहली वैक्सीन एंबुलेंस के ड्राइवर को दी जाएगी।