हिमाचल प्रदेश के तीन किसानों के खिलाफ पंजाब में हुआ मामला दर्ज, ट्रेक्टर-ट्रॉलियां भी कर ली जब्त, यहां जानें क्या है पूरा मामला…

पंजाब की सीमा के साथ लगते हुए नालागढ़ में गांव के किसानों को पंजाब में धान बेचना काफी मंहगा पड़ गया। जैसे ही हिमाचल के किसानों की ट्रैक्टर ट्रालियां पंजाब की कृषि मंडी पहुंची तो यहाँ के किसानों के इनके ट्रैक्टर सीज कर मामले दर्ज कर दिए। वही आपको बता दे कि पंजाब सरकार ने न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) पर बाहरी राज्यों के लिए धान बेचने पर पाबंदी लगा रखी है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार दभोटा गांव के रणजीत सिंह और दुगरी गांव के लखविंद्र और बलविंद्र तीन ट्रैक्टर ट्रालियां में धान लेकर पंजाब की भरतगढ़ अनाज मंडी पहुंचे थे। जैसे ही हिमाचल के किसानों का धान वहां पहुंचा, तो वहाँ मौजूद आढ़तियों ने भरतगढ़ पुलिस को बुलाकर किसानों के ट्रैक्टर सीज कर लिए और उनके खिलाफ धान बेचने के आरोप में मामला दर्ज कर लिया।

इसके बाद किसानों ने जानकारी देते हुए बताया कि उनकी पंजाब में जमीन है और वह उसी जमीन का धान लेकर मंडी गए थे, लेकिन इसके बाद भी उनकी कोई सुनवाई नहीं हो रही है। वही अब 15 दिनों से किसानों की धान की फसल खेतों में पड़े-पड़े खराब होने लगी है। इसीके साथ अब ढेर में रखे धान का रंग भी काला पड़ गया है। हिमाचल प्रदेश में न तो इसके लिए खरीद केंद्र है और न ही खरीदार, जबकि पंजाब में फसल बेचने जाओं तो उन पर मामले दर्ज हो जा रहे हैं।वही अब भरतगढ़ पुलिस चौकी के प्रभारी एसआई बलदीप सिंह ने इस मामले की पुष्टि की है। उन्होंने जानकारी देते हुए बताया कि पंजाब सरकार के सख्त आदेश हैं कि कोई भी बाहरी राज्य का किसान पंजाब की मंडियों में एमएसपी पर अपना उत्पाद नहीं बेच सकता। इस आधार पर उनके खिलाफ मामले दर्ज हुए हैं। पुलिस ने इनके खिलाफ धारा 420 व 120 बी के तहत मामला दर्ज किया है।