हिमाचल प्रदेश में दुनिया की सबसे उम्रदराज महिला ने किया मतदान, आधार कार्ड के अनुसार उम्र है 130 साल

हिमाचल प्रदेश में दुनिया की सबसे उम्रदराज महिला की जानकारी मिली है। आधार कार्ड के अनुसार इस बुजुर्ग महिला की उम्र 130 साल है और जन्म तिथि वर्ष 1890 है। वहीं गुरुवार को जब महिला बिलासपुर के घुमारवीं के पपलाह गांव में पंचायत चुनाव के दौरान वोट डालने पहुंचीं तो आधार कार्ड से इस बात का पता चला है। पपलाह की रहने वाली मंशा देवी के जन्म वर्ष को देखकर हर कोई दंग रह गया है।

वहीं सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, घुमारवीं की महिला के छह बच्चे थे, इनमें दो की मौत हो चुकी है। वहीं इस बुजुर्ग महिला के परिवार में कोई ज्यादा पढ़ा-लिखा भी नहीं है और इसी के चलते उम्र को लेकर किसी ने कोई जिक्र नहीं किया और न ही प्रशासन की इस पर नजर पड़ी। वहीं यह भी बताया जा रहा है कि महिला के बडे़ बेटे की मौत 81 साल की उम्र में साल 2004 में हुई थी। वहीं बेटे से ढाई साल बड़ी एक बेटी थी, जिनकी भी मौत हो चुकी है।

डीसी ने मीडिया से बातचीत में जानकारी देते हुए कहा कि महिला की उम्र से जुड़े तथ्यों की जांच करवाई जाएगी। अगर जिले में ऐसी महिला है तो वह गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड के लिए इसका दावा करेंगे। रिकॉर्ड के अनुसार, दुनिया की सबसे उम्रदराज महिला फ्रांस की जेन लुईस केलमेंट हैं जिनका वर्ष 1997 में 122 साल की आयु में देहांत हुआ था।

मौजूद समय में गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में जापान की 118 वर्षीय केन तनाका का नाम सबसे बुजुर्ग जीवित महिला के रूप में दर्ज है। डीसी बिलासपुर का कहना है कि जांच में अगर मंशा देवी की उम्र सही पाई जाती है तो वह वर्ल्ड रिकॉर्ड का दावा कर सकते हैं।