हिमाचल: प्रदेश में हुए अजीबोगरीब चोरी, खेतों से करीब 5 क्विटंल अदरक उखाड़ कर ले गए शातिर चोर, पुलिस कर रही छानबीन

हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर जिले में चोरी का एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है। यहां पर चोर खेतों से करीब पांच क्विंटल अदरक उखाड़ कर ले गए। इसीके साथ अब पुलिस को इस मामले की शिकायत दी गई है।

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, बिलासपुर जिले के घुमारवीं उपमंडल की उप तहसील भराड़ी में लेहड़ी, लौहट और गुगाल गांवों में यह मामले सामने आए हैं। यहाँ चोरों ने किसानों के खेतों से पांच क्विंटल के करीब अदरक निकाल ली। इस संबंध में किसानों ने भराड़ी पुलिस थाना में शिकायत दी है। इसीके साथ अब इस पुलिस मामले की जांच में जुट गई है। शातिर चोरों ने क्षेत्र में चार किसानों के खेतों से अदरक की फसल निकाल ले गए हैं।

वही जब रविवार सुबह किसानों ने देखा तो उनके होश ही उड़ गए, उनके खेतों से अदरक गायब था। खेतों में अदरक के घास की टहनियां पड़ी हुई थीं। वही लेहड़ी सरेल पंचायत के पूर्व उपप्रधान श्याम ठाकुर ने इस मामले में जानकारी देते हुए बताया कि यहाँ चोर अब फसल भी चोरी करने लगे हैं। उन्होंने बताया कि शनिवार की शाम को जब वह खेतों में काम करके घर लौटे तो यहाँ अदरक की फसल थी। वही जब रविवार की सुबह खेतों में गए तो यहाँ फसल गायब देखकर हैरान रह गए। शातिर चोर खेतों से करीब 100 किलो अदरक चुरा ले गए हैं।

इसीके के साथ श्याम ने यह भी बताया कि जब उन्होंने गांव में इस बात का जिक्र किया तो पता चला कि यशवंत सिंह का भी करीब 100 किलो, गुगाल गांव के कृष्ण का भी करीब 90 किलो, लेहड़ी सरेल के अमर सिंह का करीब 70 किलो अदरक खेतों से चोरी हो गया है। श्याम ने यह भी बताया कि खेतों से अदरक की फसल चुराने का यह अपनी तरह का पहला मामला सामने आया है। उन्होंने बताया कि अदरक के दाम करीब 70 से 80 रुपये प्रतिकिलो चल रहे है।

वही अदरक को बाजार में बेचकर आमदनी होनी थी तो ये चोर खेतों से ही फसल उड़ा ले गए। वहीं खेतों की हालत देखकर ही यह अंदाजा लगाया जा सकता है कि इस कार्य को किसी एक व्यक्ति ने नहीं, बल्कि इनके पूरे गिरोह ने अंजाम दिया है। वही आपको बता दे कि इस चुराए गए अदरक की कीमत करीब 35 से 40 हजार रुपये आंकी गई है। भराड़ी थाना प्रभारी संजीव कुमार ने जानकारी देते हुए बताया कि पुलिस को इस मामले में शिकायत मिली है। सूचना मिलते ही पुलिस की एक टीम मौके का मुआयना करने पहुंची। बाजारों में भी पूछताछ की जा रही है कि किसी ने अदरक की फसल तो नहीं बेची है।