हिमाचल बजट 2021: प्रदेश में शिक्षा और स्वास्थ्य के लिए हुईं ये घोषणाएं, यहां जानें किस वर्ग को क्या मिली सौगात

हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने शनिवार को वर्ष 2021-22 के लिए 50,192 करोड़ रुपये का बजट पेश किया। वहीं अब प्रदेश के 268 स्कूलों और नौ कॉलेजों को आधुनिक सुविधाओं से लैस किया जाएगा। प्रदेश सरकार ने स्वर्ण जयंती ज्ञानोदय क्लस्टर श्रेष्ठ विद्यालय और स्वर्ण जयंती उत्कृष्ट विद्यालय और महाविद्यालय योजनाओं का दायरा भी बढ़ा दिया है। इसके लिए अलग से 63 करोड़ के बजट का प्रावधान भी किया गया है। योजना में स्कूल-कॉलेजों में स्मार्ट क्लासरूम भी बनाए जाएंगे। शिक्षकों की उपलब्धता को सुनिश्चित किया जाएगा।

पानी, बिजली, पुस्तकालय, लेबोरेटरी और खेल मैदान की भी उचित व्यवस्था की जाएगी। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने शनिवार को बजट भाषण के दौरान कहा कि प्रदेश के 100 स्कूलों को अब ज्ञानोदय क्लस्टर श्रेष्ठ विद्यालय योजना में भी शामिल किया गया है। वहीं आसपास के स्कूलों में परस्पर सहयोग, संसाधनों के साझाकरण को राष्ट्रीय शिक्षा नीति में स्कूल क्लस्टर बनाने का प्रावधान किया गया है। वहीं चार से 12 स्कूलों को जोड़कर एक स्कूल क्लस्टर बनाया जाएगा। इन स्कूलों में शिक्षकों की कमी की समस्या को भी दूर किया जाएगा। शिक्षकों की कमी से जूझ रहे स्कूलों में क्लस्टर से शिक्षक भेजे जाएंगे।

इसी के साथ स्कूल क्लस्टर बनाने से स्कूलों की कला, संगीत, खेल, व्यवसायिक विषयों, कंप्यूटर की शिक्षा और विषय से संबंधित शिक्षकों का आदान-प्रदान करना संभव होगा। पुस्तकालय, विज्ञान प्रयोगशाला, कंप्यूटर लैब, खेल के मैदान, खेल उपकरण जैसी सुविधाएं साझा रूप से प्रयोग की जा सकेंगी।  उत्कृष्ट विद्यालय योजना में 68 स्कूलों और उत्कृष्ट महाविद्यालय योजना में नौ कॉलेजों को शामिल किया गया है। इन शिक्षण संस्थानों में आधुनिक सुविधाएं मुहैया भी करवाई जाएगी। इन तीनों योजनाओं के लिए 63 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है। इसके अलावा सरकार ग्रामीण विकास विभाग के माध्यम से 100 अन्य स्कूलों में भी सुविधाओं को बढ़ाएगी।

बजट आंकड़ों की जुबानी 
वित्तीय वर्ष 2021-22 
कुल बजट  : 50192 
कुल प्राप्तियां : 50150 
कुल व्यय   : 50192
राजस्व प्राप्तियां : 37028 
राजस्व व्यय : 38491 
पूंजीगत व्यय : 11701 
पूंजीगत प्राप्तियां : 11772 
पब्लिक एकाउंट जीपीएफ प्राप्तियां : 1350 करोड़
अपने टैक्स से आमदनी : 9282 
गैर कर आमदनी : 2757 
मार्केट लोन : 8960 
केंद्रीय करों में हिस्सा : 5524 
केंद्र से ग्रांट इन एड 19468 
नाबार्ड से कर्ज : 700 
वेज एंड मीन्स : 2000 
गैर कर प्राप्तियां : 41 
अन्य प्राप्तियां : 71 
वेतन पर व्यय : 12,704 
पेंशन पर व्यय : 7082 
ब्याज का भुगतान : 5018 
जीआईए वेतन व्यय : 1487 
सब्सिडी पर खर्च : 1081 
रखरखाव पर खर्च :3169 
ऊर्जा व्यय : 474 
जीआईए एनएस-कैपिटल 2827  
पूंजीगत व्यय  11701
मुख्य कार्य  5618  
लोक कर भुगतान 3334 
वेज एंड मीन्स 2000 
लोन एंड एडवांस 354 
अन्य : 395